Advertisement

Facts about "MAHARANA PRATAP"

FACTS ABOUT MAHARANA PRATAP


                          (क्या  आप जानते हैं )

  • महाराणा प्रताप एक ही जटके में  समेत दुश्मन को काट डालते थे। 
  • जब इम्ब्राहीम लिंकन हिन्दुस्तान दौरे पर  थे ,तब उनोहने अपनी माँ से पूछा की हिन्दुस्तान से आपके 
          लिए क्या लेकर  आए ?
         तब माँ   जबाब दिया "उस महान देश की वीर भूमि  हल्दीघाटी से एक मुट्ठी धूल  लेकर
         आना जहां का राजा  परजा  प्रति इतना वफ़ा दार था की उसने आधे हिन्दुस्तान के बदले 
         मातृभूमि को चूना "बद किस्मत  से उनका बो दौरा रद्द हो गया था। "बुक ऑफ़ प्रेजिडेंट       यू एस ए " किताब में पदसकते हैं। ……

     महाराणा प्रताप  के भाले का वजन ८० (80) किलो था, कवज का वजन ८० किलो  था,
          अगर कवज ,भाला, ढाल,और हाथ में तलवार का वजन मिलाये तो २०७ (207) किलो   
          होता था। 
  •  आज भी महाराणा प्रताप की हथियार आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रालय 
          में सुरक्षित है। 
  • अकबर ने  कहा था  की अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते हैं  तो आदा हिन्दुस्तान के 
          वारिस  बो होंगे पर बादशाह अकबर रहे गा।
  • हल्दीघाटी के युद्ध में मेवाड़ की तरफ से २०००० सैनिक थे की से ८५००० (85000) थे।
  • राणा प्रताप की मृत्यु पर अकबर भी रो पड़ा था 

  • राणा  का घोडा चेतक महाराणा को 26  फ़ीट  दरिया  के बाद वीर गति को प्राप्त  हुआ 
          उसकी टांग टूटने के बाद भी  दरिया पार कर दिया। जहां वो  घायल  हुआ वहाँ आज खोड़ी
          इमली नाम का पेड़  है और जहाँ  मरा वहाँ  मंदिर है। 

  • राणा   घोड़ा चेतक भी बहुत  ताकतवर था। 
  •  मरने से पहले राणा जी ने खोया हुआ मेवाड़ का 85 % हिस्सा फिर  से जीत लिया था। 
  •   महाराणा प्रताप का वजन ११० (110)किलो था   लम्बाई  7 "5  थी दो मिया बाली तलवार 
           और 80  किलो भाला रखते थे  में। 

  •  मेवाड़ राजघराना आज भी दुनिया का सबसे प्राचीन राजघराना है। 
      

                                          जय महाराणा प्रताप
      

TAGS:-true facts about maharana pratap,inspiring quotes about maharana pratap in hindi

        






Share on Google Plus

About Adamay Singh Parmar Rajput

Adamay Singh Parmar is a part time blogger.He is 14 years old boy.He is studying in MHS DAV Cent.Public school Akhnoor.He loves to write about rajputs and rajputana.He is really very passionate about his work.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

Your comments are very important for me. Please donot spam.