Skip to main content

MAHAKAL STATUS FOR SHIVRATRI

MAHARANA PRATAP'S INTERESTING FACTS

Power of Maharana Pratap

INTERESTING FACTS ABOUT MAHARANA PRATAP



* महाराणा प्रताप एक ही झटके में घोडा समेत दुश्मन सैनिको को काट डालते थे


*जब इब्राहिम लिंकन भारत दौरे भी आ रहे थे तब उन होने उनकी माँ से पूछाकी हिंदुस्तान से  आपके लिए क्या लेकर आऊँ । …तब माँ का जवाब मिला “उस महान देश की वीर भूमि हल्दी घाटी से एक मुट्टी धूल जहा का राजा अपने प्रजा के पति इतना वफ़ा दार था कि उसने आधे हिंदुस्तान के बदले आपनी मातृभूमि को चुना ” ….बड किस्मत से उनका वो दौरा रदद्ध हो गया था। “बुक ऑफ़ प्रेसिडेंट यु एस ए ‘ किताब में ये बात आप पढ़ सकते है। ..
Maharana Pratap Painting
Maharana Pratap
*महाराणा प्रताप के भाले का वजन 80 किलो था और
कवच का वजन 80 किलो था और कवच
भाला,कवच,ढाल,और हाथ मे तलवार का वजन मिलाये तो 207 किलो

*आज भी महा राणा प्रताप कि तलवार कवच आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रालय में सुरक्षित है
*अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है तो आदा हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे पर बादशाहट अकबर कि रहेगी
*हल्दी घाटीकी लड़ाई में मेवाड़ से 20000 सैनिलथे और अकबर कि और से 85000 सैनिक
Maharana Pratap Battle of Haldighati
Maharana Pratap Battle of Haldighati
*राणाप्रताप के घोड़े चेतक का मंदिर भी बना जो आज हल्दी घटी में सुरक्षित है
*महाराणा ने जब महलो का त्याग किया तब उनके साथ लुहार जाति के हजारो लोगो ने भी घर छोड़ा और दिन रात राणा कि फोज के लिए तलवारे बनायीं इसी समाज को आज गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान में गड़लिया लोहार कहा जाता है नमन है ऐसे लोगो को
Maharana Pratap Painting
Maharana Pratap  life in haldighati
*हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी वह जमीनो में तलवारे पायी गयी। … आखिरी बार तलवारों का जखीरा 1985 हल्दी घाटी के में मिला
*महाराणा प्रताप अस्त्र शत्र कि शिक्सा जैमल मेड़तिया ने दी थी जो 8000 राजपूतो को लेकर 60000 से लड़े थे। …. उस युद्ध में 48000 मारे गए थे जिनमे 8000 राजपूत और 40000 मुग़ल थे
*राणा प्रताप के देहांत पर अकबर भी रो पड़ा था
Statue of Maha Rana Pratap udaipur
Statue of Maha Rana Pratap udaipur
*राणा का घोडा चेतक भी बहुत ताकत वर था उसके मुह के आगे हाथी कि सूंड लगाई जाती थी
Maharana Pratap and Chetak
Maharana Pratap and Chetak
*मेवाड़ के आदिवासी भील समाज ने हल्दी घाटी में अकबर कि फोज को आपने तीरो से रोंद डाला था वो राणाप्रताप को अपना बेटा मानते थे और राणा जी बिना भेद भाव के उन के साथ रहते थे आज भी मेवाड़ के राज चिन्ह पैर एक तरह राजपूत है तो दूसरी तरह भील
*राणा का घोडा चेतक महाराणा को 26 फीट का दरिआ पार करने के बाद वीर गति को प्राप्त हुआ।उसकी एक टांग टूटने के बाद भी वो दरिआ पर कर गया। जहा वो घायल हुआ वहाआज खोड़ी इमली नाम का पेड़ है जहा मारा वह मंदिर । हेतक और चेतक नाम के दो घोड़े थे
*मरने से पहले महाराणा ने खोया हुआ 85 % मेवार फिर से जीत लिया था
Bravery of Maharana Pratap
Bravery of Maharana Pratap
*सोने चांदी और महलो को छोड़ वो 20 साल मेवाड़ के जंगलो में घूमने
*महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो… और लम्बाई – 7’5” थी…..
दो मियां वाली तलवार और 80 किलो का भाला रखते थे हाथ में.
*मेवाड़ राजघराने के वारिस को एक लिंग जी भगवन का दीवान माता जाता है।
*छत्रपति शिवाजी भी मूल रूप से मेवाड़ से तलूक रखते थे वीर शिवा जी के पर दादा उदैपुर महा राणा के छोटे भाई थे
*अकबर को अफगान के शेख रहमुर खान ने कहा था अगर तुम राणा प्रताप और जयमल मेड़तिया को मिला दो अपने साथ तोह तुम्हे विश्व विजेता बन्ने से कोई नहीं रोक सकता पर इन दो वीरो ने जीते जी कबि हार नहीं मानी।
*नेपाल का राज परिवार भी चित्तोर से निकला है दोनों में भाई और खून का रिश्ता है
*मेवाड़ राजघराना आज भी दुनियाका सबसे प्राचीन राजघराना है उस के बाद जापान का है
*Rana Pratap ke purvaj Rana Sanga ne akabar k dada babar se khanwa me yudh lada tha or rana pratap ne akabar se or rana k bete amar singh ne janghir ko sandhi k liye majboor kiya tha or aapne 15 saalo k raaj me pura Mewar apne kabje me le liye tha.
*Haldighati se 40 KM dur ranakpur k jungel me aaj bhi rana pratap k senapati rana jhala ki chatri bani huyi hai jaha unhe veer gati prapt huyi hai


Painting of Maharana Pratap
Maharana Pratap  in jungle


*Rana Pratap k saath afgan k teer chalane wale 2000 pathan bhi the jo ladai shuru hone k 2 ghante baad maidan chod gaye the


*Mewar ki or se rana pratap ki ek tukdi ki leadership ek saache musalman ne ki thi usko or uske pariwar ko maharana ne muglo se bachaya tha or mewer me panah di thi


*Maharana Pratap k bete amar singh ne akabar or muglo ki begumo ko malwa k pass se ek jung jeetne k baad kaid kr laye the …iska pata chalte rana ne un auroto ko samman sahit bhijwaya or 3 din vishit ahiti bana kar rakha is per amar singh ko kaafi samjhaya tha


*Maharana Pratap k saat mewar malwa or godwar k 100 se jayda thakur saat the


* Ek waqt aisa bhi aaya tha jab rana pratap k bete amar chote the or jab wo gass ki roti kha rahe the tab ek billa amar singh k haat se wo gass ki roti le bhaga tha iss per geet bhi jo aaj bhi gaya jata hai “hare gass ki roti jad van bilado le bhagyo”


*Aadwasi bheel samaj k log rana k maut k baad bhi unhe ghar ghar pujte rahe in kabilo ka sardar hamesha mewar k ranao ka saath deta aaya hai


*Haldi ghati me itna khoon baha tha ki waha k nadiyo or jharno ka pani bhi laal ho gaya tha
or aant me sabi ko shukariya yaha tak padhne k liye
wo rana humare liye lada tha sirf or sirf apne desh k liye na rajput k liye na jat k liye na gurjar k liye na brahman k liye or na hi aapne Raj Sinhasan k liye…..
Jai Maharana….


Mar kar bhi jo amar ho gaya wo rana wo maha rana


TAGS:-interesting facts of maharbna pratap,full informaton about maharana pratap



Comments

  1. Maharana pratap was really very great

    ReplyDelete

Post a Comment

Your comments are very important for me. Please donot spam.

Popular posts from this blog

HISTORY OF BABA BALAK NATH JI IN HINDI

जय श्री बाबा बालकनाथ

बाबा बालकनाथ जीपंजाबीहिन्दू आराध्य हैं, जिनको उत्तर-भारतीय राज्य पंजाब और हिमाचल प्रदेश में बहुत श्रद्धा से पूजा जाता है, इनके पूजनीय स्थल को “दयोटसिद्ध” के नाम से जाना जाता है, यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के छकमोह गाँव की पहाडी के उच्च शिखर में स्थित है। मंदिर में पहाडी के बीच एक प्राकॄतिक गुफा है, ऐसी मान्यता है, कि यही स्थान बाबाजी का आवास स्थान था। मंदिर में बाबाजी की एक मूर्ति स्थित है, भक्तगण बाबाजी की वेदी में “ रोट” चढाते हैं, “ रोट ” को आटे और चीनी/गुड को घी में मिलाकर बनाया जाता है। यहाँ पर बाबाजी को बकरा भी चढ़ाया जाता है, जो कि उनके प्रेम का प्रतीक है, यहाँ पर बकरे की बलि नहीं चढाई जाती बल्कि उनका पालन पोषण करा जाता है। बाबाजी की गुफा में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबन्ध है, लेकिन उनके दर्शन के लिए गुफा के बिलकुल सामने एक ऊँचा चबूतरा बनाया गया है, जहाँ से महिलाएँ उनके दूर से दर्शन कर सकती हैं। मंदिर से करीब छहः कि.मी. आगे एक स्थान “शाहतलाई” स्थित है, ऐसी मान्यता है, कि इसी जगह बाबाजी “ध्यानयोग” किया करते थे।


कहानी बाबा बालकनाथ जी की कहानी बाबा …

Kuldevi of Rajputs - Kuldevi of all Rajput Vansh and Gotra

Kuldevi of Rajputs - Kuldevi of all Rajput Vansh and Gotra Posted on26 december 2014by ADAMAY SINGH PARMAR Rajput are divided into three vansh Suryavanshi, Chandravanshi, Agnivanshi. Each of these vansh are divided into different clans(Kula), Shakh, branch. The kul serves as primary identity for many of the Rajput clans. Each kul is protected by a family goddess, the kuldevi. Here is list of kula with their kuldevi :

Manhas Rajput History

Manhas Rajput History
Minhas or Manhas or Minhas-Dogra (Punjabi: मिन्हास (Devanagari), ਮਿਨਹਾਸ(Gurmukhi), مِنہاس (Urdu)) is a Suryavanshi Rajput clan from the Punjab region and Jammu & Kashmir in India and Pakistan. It is an off-shoot of Jamwal-Dogra Rajputs, the founders of the city and state of Jammu and its rulers from ancient times to 1948 CE. In antiquity of rule, which is generally considered a benchmark of royalty, they are second to none, but the great Katoch Rajputs of Trigarta and Kangra. Paying tribute to the antiquity of their royal lineage, Sir Lepel Griffin says, “These royal dynasties may have been already ancient when Moses was leading the Israelites out of Egypt, and the Greeks were steering their swift ships to Troy.”
Minhas Rajputs are spread throughout Punjab Region and Jammu & Kashmir inIndia and Pakistan. Hindu Minhas Rajputs reside in the Indian states of Jammu and Kashmir, Himachal Pradesh and Indian Punjab, Sikh Minhas Rajputs, mainly inhabit Punjab (In…